सूरत के अग्निकांड में हादसा

सूरत के अग्निकांड में हादसा

सूरत के अग्निकांड में हादसा

सूरत के अग्निकांड में हादसा

सूरत के सूरत के अग्निकांड में हादसा अग्निकांड में हादसानहीं हत्या हुई 20 बच्चे की जान गई और 20 से ज्यादा बच्चे घायल हो गए हैं

सूरत के मासूम बच्चों को इंसाफ कब मिलेगा

गुजरात: सूरतके सूरत वाणिज्यिक परिसर में शुक्रवार दोपहर आग लगने के बाद एक ‘कोचिंग क्लास’ के करीब 20 छात्रों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। टीवी चैनलों पर दिखाईं जा रही वीडियो में सरथना इलाके के तक्षशिला परिसर में लगी आग का भयानक मंजर दिखाई दिया, जहां छात्र आग से बचने के लिए खिड़कियों से कूदते नजर आए। गुजरात सरकार ने बताया कि 20 बच्चों की मौत दम घुटने या आग लगी इमारत से कूदने के कारण हुई

सूरत के अग्निकांड में हादसा

गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा, ‘‘ हमने मामले में विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं और दोषी पाए गए किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।’’ राज्य के दमकल विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘ करीब 10 छात्र आग से बचने के लिए तीसरी और चौथी मंजिल से कूद गए। कई लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आग बुझाने का काम जारी है

सूरत अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि 19 दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया और आग पर काबू पाने के लिए दो हाइड्रोलिक प्लेटफार्म भी बनाए गए हैं। स्थानीय लोग भी बचाव अभियान में अधिकारियों की मदद कर रहे हैं। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचने का आदेश दिया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों को चार चार लाख रूपए की वित्तीय सहायता मुहैया कराने का ऐलान भी किया है।

सूरत के अग्निकांड में हादसा

 

 

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने शुक्रवार को सूरत के सरथाना में चार मंजिला वाणिज्यिक इमारत में आग लगने की घटना के बाद स्कूलों, कॉलेजों और कोचिंग सेंटर में आग से सुरक्षा को लेकर ऑडिट कराने का आदेश दिया। घटनास्थल का जायजा लेने के बाद रूपाणी ने कहा कि ऑडिट में पता लगाया जाएगा कि राज्य में शैक्षणिक संस्थानों में आग की घटना से बचाव के लिए समुचित उपकरण और सुविधाएं हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्य शहरों और नगरों में अस्पताल, मॉल और दूसरी वाणिज्यिक इमारतों को भी ऑडिट में शामिल किया जाएगा

 

आग की एक चिंगारी ने विकराल रूप ले लिया और इस आग में इस घटना में 20 बच्चे की जान चली गई और 20 से ज्यादा बच्चे घायल हो गए कोचिंग सेंटर सूरत के भार्गव भूटानी कोचिंग सेंटर के मालिक थे कोचिंग सेंटर के मालिक को गिरफ्तार कर लिया गया है के कोचिंग सेंटर भार्गव भूटानी  मालिक की थे ट्रांसफार्मर में पहले आग लगी ट्रांसफार्मर  में शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगी और आग में धीरे-धीरे विकराल रूप ले लिया और आज कोचिंग सेंटर के बिल्डिंग में लग गई  ट्रांसफार्मर से बिल्डिंग तक आग पहुंची और फिर बिल्डिंग में आग लगी और फिर बच्चे जान बचाने के लिए कूदे कोचिंग सेंटर के तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया और केस दर्ज किया गया

सूरत के अग्निकांड में हादसा

अगर किसी कारण से आग लग जाए तो इस नंबर पर कॉल किजए

आपातकालीन सुविधा तुरंत उपलबध हो जाएगी। अगर फायर विभाग का आपाताकालीन नंबर 101 व्यस्त मिले तो आप 0172-2703236, 2703507 और 2702333 पर भी फोन करके अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।

सूरत के अग्निकांड में हादसा

HOME FIRE EXTINGUISHER XL 10 LBS. 

आप आप अपने घर के लिए भी इस लिंक से आप अपने घर के लिए भी इस लिंक से  आग बुझाने वाला टूल्स खरीद सकते हैं

Fire Pumps – Fire Sprinklers – Fire Alarms. Hands-on class: Learn how to properly inspect and understand what inspection results mean. Email: info@firetech.com.

कोचिंग सेंटर के मालिक भार्गव भूटानी गिरफ्तार हो चुके हैं

सूरत का अग्निकांड सूरत के मासूम बच्चों को इंसाफ कब मिलेगा भार्गव भूटानी  कोचिंग सेंटर मालिक हैं 

सूरत के अग्निकांड में 3 लोगों को ऊपर केस दर्ज करके इन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया

पहले कोचिंग सेंटर में आग लगने का कारण क्या हो सकता है क्या है आइए जानते हैं पहले तो ट्रांसफार्मर में शॉर्ट सर्किट की वजह से चिंगारी भड़की और फिर ट्रांसफार्मर में आग लगी और फिर धीरे-धीरे बिल्डिंग की तरफ आग बढ़ती चली गई और फिर बिल्डिंग में आग लगी और फिर बच्चे 20 बच्चे जान बचाने के लिए अपनी जान गवा दिए और 20 बच्चे से ज्यादा घायल हो गए यह

हमारे देश में कोई नई लापरवाही नहीं है इससे भी कई ज्यादा हर जगह पर लापरवाही ना होती रहती हैं और आग लगती रहती है क्या हिंदुस्तान में ऐसे ही होते रहना चाहिए हम अपने व्यवस्था को ऐसे ही रखेंगे तो आने वाले समय में दुर्घटनाएं भयानक रूप ले रही है

और हम हादसा को और दुर्घटनाओं को हादसा  होने वाले जगहों को हर समय इग्नोर करते रहते हैं और और किसी बडी हादसा का ईनतजार  करते है  कारण है कि आज

हमें से कई लोग हादसे के शिकार हो चुके हैं और कहीं भी कभी भी हादसा हो सकते हैं और हादसे के शिकार हम होते रहते हैं 

किसी भी तरह से दुर्घटनाओं को दुर्घटनाग्रस्त इलाकों को दुर्घटनाग्रस्त व्यवस्था को सुधारना होगा नहीं तो ऐसे ही हमारे देश में दुर्घटनाएं बढ़ती रहेगी और लोग मरते रहेंगे

हम एक बात कहना चाहते हैं आप लोग से हम अपने बच्चों को लाखों करोड़ों रुपए खर्च करके पढ़ाते दिखाते हैं और सब एक चुटकी में बेकार हो जाता है इस हादसे और दुर्घटना के कारण जो कि हमें सबसे पहले अपने अर्थव्यवस्था को सुधारना होगा तभी जाकर दुर्घटना जड़ से खत्मम होगा  और हादसा दुर्घटना को खत्म करना होगा और साथ ही दुर्घटनाग्रस्त जगहों को सुधारना होगा ताकि कहीं भी ऐसा हादसा दुर्घटना ना हो

रही बात सूरत के अग्निकांड की यह कोई नई घटना नहीं  है हर जगह पर किसी ना किसी परकार से दुर्घटना होती रहती हैं 

और घटनाएं होती रहती है वोटिंग के दिन झारखंड में जादूगोड़ा रोड में चार गाड़ियां पलटी जो कि यह लापरवाही के करण हुई थी दुर्घटना हुई थी गाड़ी चाला रहे डराईवर ने लापरवाही कि थी बल्कि सीधी अपने आप जाकर खाई में गिर गई या क्यों गिरी अनुमान लगाया जा रहा है कि वह लोग वोटिंग की अपडेट देखने के चक्कर में मोबाइल देखने के चक्कर में गाड़ी कंट्रोल नहीं कर पाए और गाडी  सी धी  खाई में गिरी एक टेलर है और 3 कार है तीनों रोड के किनारे जाकर खाई में गिर गई और इसमें कई लोगों की जानें ऐसे ही

दुर्घटना या हादसा कोई भि रूप लेके आसकता हैं हमे हमेसा सावधान रहना चाहिए और जनता को जागरूक करते रहना चाहिए 

दुर्घटना हादसा बढ़ती जा रही है और हम इस दुर्घटना हादसा  को सुधारने के बजाय इस को अनदेखा करते जा रहे हैं और हमारे बच्चे मर रहे हैं  और हमारे जैसे युवा लोग मरते  जा रहे हैं

हम मे से कई लोग ए सोचके भुल जाते है कि मरने दो मरने वाले को कोन रोक सकता है  तो हमें क्या फायदा होता है हम ऊसी दुर्घटना हादसा के सिकार होते हैं 

 हमे दुर्घटना  हादसा को जड़ से खत्म करने के लि आगे बढ़ना होगा सुरक्षा जागरूकता लाना होगा  हमारे भारत देश में

सूरत के अग्निकांड में हादसा

और तभी जाकर हम सभी लोग सुरक्षित रहेंगे खुश रहेंग और जिंदगी का मजा लें सकेंगे दुर्घटनाग्रस्त की जगह को खत्म करना होगा जड़ से खत्म करने का आवाज उठाइए और इस वेबसाइट में कमेंट कीजिए safetyyoyo.com पे दोस्तों safetyyoyo.com इसीलिए बना है ताकि सेफ्टी अवार्नेस आ चुके सेफ्टी यो यो का मतलब है सेफ्टी आपका संगठन आप का आश्वासन इसका मतलब यही होता है सेफ्टी यो यो का मतलब है  सेफ्टी योर ऑर्गेनाइजेशन योर आश्वासन

इस वेबसाइट के जरिए कॉमेंट करके आवाज लगाईये  आगे बढ़ना होगा सुरक्षा जागरूकता के लिए और जागरूकता ला सकते हैं दोस्तों दुर्घटना  इस कदर बढ़ चुकी है हमारे भारत देश में कहीं भी किसी भी समय दुर्घटना हो सकता है किसी का भी लेकिन हम इसे इस दुर्घटना पर ध्यान नहीं दे रहे और इस दुर्घटना को खत्म करने का प्रयास नही कर रहे है 

 हम प्रयास करते हैं तो बस अपने आप को सोचते हैं कि ठीक हैं अच्छे हैं कोई बात नहीं ऐसे ही सोचते रहते हैं और दुर्घटनाएं होती रहती है अपनी अपनी सोच को बदलना होगा दुर्घटनाओं को हादसों को जड़ से खत्म करना होगा

तभी जाकर दुर्घटना हादसा जड़ से खत्म होगा और आवाज सबसे पहले इस हादसे के ऊपर उठाना होगा हर जगह हर क्षेत्र में हमें आवाज उठाना होगा दुर्घटनाग्रस्त जगहों को सुधारने के लिए

और दुर्घटना जागरूकता लाने के लिए ताकि किसी का भी बच्चा कल ना मरसके  सभी लोग सुरक्षित रहें और खुश रहें एक कदम आगे बढ़े हमारे आने वाले भविष्य के लिए सुरक्षित भविष्य सुरक्षित देश के लिए  दोस्तों

ऐसी ना जाने ढेली लोग  दुर्घटना हादसा के सिकार हो रहे हैं  मरते जा रहे हैं घटना और हादसे के शिकार होते जा रहे हैं और हम लोग बस टीवी देखते रहते हैं और बस सोचते हैं उसे तो मरना था  मर गया भगवान ने बुला लिया

भगवान को दोष देते हैं भगवान को पूजते हैं हम अपने अर्थव्यवस्था को नहीं की नहीं  सोचते सुरक्षा के बारे में मे भी जानकारी नही देते लोगो को 

सूरत के अग्निकांड में हादसा

और अपने अर्थव्यवस्था को  सुधार के सुरक्षा व्यवस्था को सुधारना होगा दुर्घटना को हादसा को जड़ से खत्म करना होगा  सुरक्षा जागरूकता पर आवाज उठाना होगा होगा हर एक के दिल में होना चाहिए और हर जगह होना चाहिए सुरक्षा जागरूकता 

सूरत के अग्निकांड में हादसा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूरत में भयंकर अग्निकांड पर शुक्रवार को गहरा दुख प्रकट किया और गुजरात सरकार एवं स्थानीय प्रशासन को प्रभावित लोगों को सभी संभव सहायता प्रदान करने का निर्देश दिया। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ सूरत के अग्निकांड से बहुत दुख हुआ। मेरी संवदेना शोक संतप्त परिवारों के साथ है। कामना करता हूं कि घायल लोग शीघ्र स्वस्थ हो। (मैंने) गुजरात सरकार और स्थानीय प्रशासन से प्रभावितों को सभी संभव सहायता देने को कहा है।’’ सूरत के तक्षशिला परिसर के तीसरे और चौथे तल पर भयंकर आग लग गयी थी। टीवी पर नजर आ रहा था कि बच्चे इस भवन के तीसरे और चौथे तल से छलांग लग रहे हैं

 

Fire Extinguisher For Home Use  Upto 40% Off On Top Brands