Top International safety Council

Service

Top International safety Council

Top International safety Council

Safetyyoyo.com entertainment every day Top International safety Council me आपका स्वागत है

hello dosto

आपको सुभाष चंद्र बोस का डायलॉग तो हमे  याद होगा

तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा

दोस्तों आज हमें आजादी चाहिए दुर्घटना हादसा से और एक्सीडेंट से

क्यो की आज हर इंसान को कदम कदम पर खतरा है

https://www.internationalsafety.com/

सुबह मैं जब घर से बाहर निकलते हैं तो शाम को पता नहीं घर वापस आएंगे कि नहीं आएंगे

सारा दिन डर बना रहता है हम सभी लोग मे   हर एक इंसान के अंदर डर बना रहता है

 

कोई कार से जाता है कोई बाइक से जाता है कोई बस से जाता है कोई ट्रेन से जाता है कोई प्लेन से जाता है कोई साइकिल से जाता है या कोई पैदल जाता है बस जते आते रहते हैं

Top International safety Council

https://www.britsafe.org/awards-and-events

लेेकिन क्या हम लोगो कभी सोचाे है हमे दुर्घटना और हादसा किस प्रकार घेर रहा है

हम लोग दुर्घटना और हादसा के जाल में फंसते जारहे है दुर्घटना ईस परकार घेर चुका है कि हम लोग सुरक्षित घर ? पहुचेगे  या नही  ईसका कोई ठिकाना नही है

 

क्या कोई सुरक्षित घर ? पहुंचाने का जिमवारी लेरखा है

अगर कोई जिमवारी ले रखा है तो मुझे जरूर बताये

मुझे लगता है की किसीने जिममवारी नही लेरखा नाही कोई जिमवारी लेना चाहता है

कोई घर के बाहर टहल रहा है या फिर कोई बच्चा घर के द्वार पर या फिल्ड में या कहीं पार्क में खेल रहा है हर जगह पर  खतरे का डर रहता है

https://books.google.co.in/

दोस्तों हमें सावधानी सुरक्षा अपनाना होगा सुरक्षा जागरूकता सुरक्षा एजुकेशन को फ्री करना होगा

 

तभी जाकर हमारे देश में दुर्घटना हादसा  से आजादी मिलेगा और हम सभी को सेफ्टी जागरूकता के बारे में जागरूक होना होगा और  हमे  सभी लोग को जागरुक करना होगा

लोग दुनिया में योगदान तो बहुत प्रकार के देते हैं  और रक्तदान भी देते हैं क्या आप सुरक्षा योगदान दे सकते हैं सुरक्षा जागरूकता के लिए

Top International safety Council

दोसतो मे हर रोज सुरक्षा जागरूकता के लिए 24 घंटे काम करता हूँ केया आप ढेली के 30 मिनट नही निकाल सकते

क्या आप सुरक्षा योगदान नही दे सकते है आप जरूर बतलाईये गा ईस पोस्ट मे कोमेनट कर के

मुझे लगता है जवाब हां या ना में ही अटका जायेगा अटका रहेगा

https://books.google.co.in/books

क्योंकि अभी सुरक्षा योगदान के बारे में लोग जागरुक नहीं है जब लोग जागरुक होंगे तो जरूर सुरक्षा योगदान  देंगे

अगर सुरक्षा योगदान मिलेगा तो दुर्घटना जड़ से खत्म जरूर हो सकता है

 

दोस्तों सुरक्षा योगदान देएनगे तभी जाकर दुर्घटना से आजादी मिलेगी

हमें सुरक्षा जागरूकता पर मिल जुल कर काम करना होगा तभी जाकर दुर्घटना से आजादी मिलेगी

नही तो लोग युही दुर्घटना हादसा से लोग  मरते रहेंगे और हम लोग कुछ नही कर पायएगे

Top International safety Council

दोसतो सुरक्षा जागरूकता योगदान देना होगा तभी जाकर जाकर दुर्घटना हादसा जड़ से खत्म होगा

दोसतो  हमारे भारत देश मे सुरक्षा जागरूकता फ्री एजुकेशन होना चाहिए

और फ्री एजुकेशन  आएगा सुरक्षा सावधानी के बारे में मैं तो दुर्घटना हादसा जड़ से खत्म हो जाएगा

मे यह बार-बार क्यों बोल रहा हूं

क्योंकि आने वाले समय में  सुरक्षा योगदान का लाभ हमें तो  मिलेगा  और हमाारे परिवार वालो को मिलेगा ईसी लिये सुरक्षा योगदान बहुत जरूरी है

और हमारे बच्चों को हमारे परिवार को सुरक्षा योगदान का लाभ जरूर मिलेगा

सुरक्षा योगदान  फ्री एजुकेशन लाना बहुत जरूरी है

Top International safety

और फ्री एजुकेशन आगया तो समज लिजए  दुर्घटना हादसा जड़ से खत्म हो जाएगा

और हमारे बच्चौ को सुरक्षा जागरूकता के बारे मे फ्री एजुकेशन मिलेगा

फ्री एजुकेशन प्राप्त  करेंगे और फिर सुरक्षा के प्रति सभी लोग शिक्षित हो जाएंगे तब जाकर  दुर्घटना से आजादी मिल जाएगी इस आर्टिकल  को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और कमेंट करें और मुझे बताएं आपका

छात्राओं को आत्म सुरक्षा की जानकारी देकर जागरूक कियाछात्राओं को आत्म सुरक्षा की जानकारी देकर जागरूक किया शामली। बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान के तहत शहर के स्कॉटिश इंटरनेशनल स्कूल में कार्यक्रम आयोजित किया गया।

आयोजित कार्यक्रम में महिला थाना प्रभारी नीरज चौधरी ने बालिकाओं को यूपी 100,181 और 1090 सेवाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन सभी हेल्प लाइनों द्वारा प्राप्त सूचनाओं को गोपनीय रखा जाता है और शिकायतकर्ता की निजी जानकारी किसी के साथ साझा नहीं की जाती है।

डायल 181 की इंचार्ज प्रियंका ने छात्राओं को इस सेवा की जानकारी दी और आत्मरक्षा से संबंधित जानकारी दी। यातायात प्रभारी भंवर सिंह ने बालिकाओं को आत्मरक्षा के टिप्स देते हुए यातायात नियमों का पालन करने पर जोर दिया। प्रधानाचार्या आशु त्यागी ने बालिकाओं को संबोधित करते हुए इन सभी हेल्पलाइनों के उपयोग के बारे में बताते हुए निडर होकर रहने के लिये कहा। उन्होंने असामाजिक तत्वों से निपटने हेतु मार्शल आर्ट सीखने के लिये भी प्रेरित किया

अनिश्चितता की वजह में बदलाव
जॉब/आमदनी सिक्योरिटी-33%
स्वास्थ्य संबंधी चिंता-बढ़ता मेडिकल खर्च-22%
कीमत बढ़ना-13%
पैसे की वैल्यू घटना-17%
घर का खर्च बढ़ना, आश्रितों की बढ़ती मांग-9%
आर्थिक स्थितियों में बदलाव-भारत पर असर-4%
बढ़ती कीमत की जगह अब लोगों का फोकस जॉब सिक्योरिटी और स्वास्थ्य पर शिफ्ट हुआ है.

महिलाएं अधिक पीड़ित
साल 2013 में ऐसा मानने वाली महिलाओं की संख्या 76% थी जो साल 2017 में बढ़कर 82% हो गयी है.
महिलाओं में तनाव 82% तक है, जबकि पुरुषों में यह 76 फीसदी है.

जीवन में प्राथमिकता संबंधी चिंता
35%-बच्चे की शिक्षा के लिए पैसे का प्रबंध
32%-लंबा-स्वस्थ और एक्टिव जीवन
22%-पसंद का मकान खरीदना
22%-जीवन स्तर को बेहतर बनाना
22%-कर्ज मुक्त जीवन जीना

जोखिम से सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ी
साल 2017 में इस तरह की जरूरत 76% लोगों को महसूस हुई है. उन्हें लगता है क ..
रिटायरमेंट प्लानिंग की जरूरत नहीं-1%

बचत जरुरी है
आमदनी का 25% से ज्यादा बचत जरुरी-44%
आमदनी का 20% से ज्यादा बचत जरुरी-57%
आमदनी बढ़ने के साथ ही निवेश और बचत में वृद्धि हुई है और किसी अनिश्चित स्थिति से लिए लोग रकम बचा रहे हैं.